हमारा फर्स्ट-क्लास क्रिकेट शानदार, इसीलिए जीत रहे; कमेंटेटर कीफ के बेतुके बोल पर कोहली

41

  • मेलबर्न टेस्ट के दौरान कीफ ने मयंक अग्रवाल के तिहरे शतक को लेकर तंज कसा था
  • जसप्रीत बुमराह ने अपनी सफलता में प्रथम श्रेणी क्रिकेट का भी योगदान बताया

Dainik Bhaskar

Dec 30, 2018, 02:37 PM IST

मेलबर्न. तीसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 137 रन से जीत हासिल करने के बाद कप्तान विराट कोहली ने कमेंटेटर कैरी ओ कीफ को आईना दिखाया। रविवार को कोहली ने कहा, ‘हमारा प्रथम श्रेणी क्रिकेट का ढांचा बेहद शानदार है, इसीलिए हम जीत रहे हैं।’ कीफ ने इस टेस्ट के दौरान मयंक अग्रवाल पर तंज कसा था। उन्होंने कहा था, ‘मयंक ने तिहरा शतक रेलवे कैंटीन के खिलाफ जड़ा था। उस मैच में कैंटीन के शेफ और वेटर गेंदबाजी कर रहे थे।’ हालांकि, उन्होंने बाद में अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी थी। 

हमारे प्रथम श्रेणी क्रिकेट में गेंदबाजों के लिए कड़ी चुनौती : विराट

भारतीय कप्तान ने किसी का नाम लिए बिना कहा, ‘हमारा प्रथम श्रेणी ढांचा बेहतरीन है और यही कारण है कि हम जीत रहे हैं। हमारा प्रथम श्रेणी ढांचा हमारे तेज गेंदबाजों को चुनौती देता है। इससे उन्हें विदेश में अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलती है।’ उन्होंने जसप्रीत बुमराह जैसे गेंदबाज के उभरने का श्रेय भी ‘शानदार घरेलू क्रिकेट ढांचे’ को दिया। 

घरेलू क्रिकेट में कड़े अभ्यास के कारण ही हम लंबे स्पेल करने में सक्षम : बुमराह

इससे पहले प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार ग्रहण करते समय जसप्रीत बुमराह ने भी टेस्ट क्रिकेट में अपनी सफलता में रणजी ट्रॉफी के योगदान का जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘हम कड़ा अभ्यास करते हैं। हमें रणजी ट्रॉफी में काफी ओवर गेंदबाजी करने की आदत है। यही कारण है कि इसके लिए हमारा शरीर तैयार रहता है।’

कोच शास्त्री भी कीफ को दे चुके हैं माकूल जवाब

भारतीय कोच रवि शास्त्री ने भी डेब्यू टेस्ट में मयंक के 76 रन बनाने के बाद कीफ को माकूल जवाब दिया था। शास्त्री ने कीफ की मौजूदगी में फॉक्स स्पोर्ट्स को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘मयंक के पास कैरी के लिए संदेश है… ‘जब आप अपनी कैंटीन खोलें तो वह कॉफी को सूंघने के लिए आना चाहता है और भारत की कॉफी से तुलना करना चाहता है…. यहां की काफी बेहतर है या भारत की।’

माफी मांगने के बाद भी अपनी हरकत से बाज नहीं आए कीफ

कीफ ने टेस्ट के चौथे दिन भी गैर जरूरी टिप्पणी की। उन्होंने चेतेश्वर पुजारा और रविंद्र जडेजा के नाम नहीं बोल पाने का मजाक बनाया। उन्होंने कहा, ‘आप अपने बच्चों का नाम चेतेश्वर, जडेजा क्यों रखते हो।’ उनके इस बयान पर आकाश चोपड़ा ने ट्वीट कर नाराजगी जताई। उन्होंने लिखा, ‘यदि आप किसी का नाम नहीं पुकार सकते तो यह आपकी समस्या है। यह दुर्भाग्यपूर्ण, अस्वीकार है।’

<!–

–Advertisement–

googletag.cmd.push(function(){googletag.display(‘WAP_300_250_MID’);});

–>