दिल्ली में पहले ही दिन नए कानून से 300 नई एफआईआर

1 min read

New Delhi: सोमवार की सुबह भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस) के तहत दर्ज की गई एक दर्जन से ज्यादा एफआईआर में एक गोलीबारी की घटना और एक जानलेवा दुर्घटना शामिल है. सूत्रों ने बताया कि आधी रात से दोपहर तक पुलिस ने नए कानूनों के तहत 100 से ज्यादा एफआईआर दर्ज की गई हैं.

हालांकि, दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कोई आधिकारिक आंकड़ों की घोषणा नहीं की है जिससे पता चल पाए कि कानून बदलने के पहले दिन कितनी एफआईआर दर्ज हुई हैं. हालांकि, कई उच्च अधिकारियों ने कंफर्म किया है कि एफआईआर दर्ज करने के मामले में यह सामान्य प्रक्रिया है. गोलीबारी की घटना उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर में हुई, जिसमें एक व्यक्ति घायल हो गया, जबकि जानलेवा दुर्घटना निहाल विहार इलाके में हुई थी.

सूत्रों ने बताया कि कमला मार्केट थाने में तड़के एक रेहड़ी-पटरी वाले के खिलाफ अतिक्रमण के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई, लेकिन बाद में दिल्ली पुलिस ने इसे रद्द करने के लिए अदालत का रुख किया. पहले ऐसा भी सामने आ रहा था कि बीएनएस के तहत दर्ज की गई यह पहली एफआईआर है लेकिन पुलिस ने इसे गलत करार दिया. संवाददाताओं से बात करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने बताया था कि बीएनएस के तहत पहला मामला ग्वालियर में दर्ज हुआ था.

उन्होंने कहा, “कमला मार्केट थाने में दर्ज मामला नए कानूनों के तहत दिल्ली में दर्ज पहला मामला था. पहले के कानून में भी इस अपराध के लिए प्रावधान थे. यह कोई नया प्रावधान नहीं है. पुलिस ने इस प्रावधान का इस्तेमाल मामले की समीक्षा करने के लिए किया और मामले को खारिज कर दिया.”

भारतीय न्याय संहिता के तहत ग्वालियर पुलिस ने रात के 12 बजकर 10 मिनट पर यामाहा की स्पोर्ट्स बाइक की चोरी होने की एफआईआर दर्ज की थी. इस बाइक की कीमत 1 लाख 80 हजार रुपये है.

वहीं भोपाल में रात के 12 बजकर 16 मिनट पर सेक्शन 296 के तहत दर्ज हुआ था. इसके बाद दूसरा मामला रात को 12 बजकर 20 मिनट पर हमला और जबरन वसूली का दर्ज किया गया था. इसके बाद तीसरा मामला 12 बजकर 22 मिनट पर पब्लिक प्लेस में दो व्यक्तियों द्वारा हंगामा करने को लेकर दर्ज किया गया था.

छत्तीसगढ़ में पहला मामला रात को 12 बजकर 30 मिनट पर सेक्शन 296 और 351(2) के तहत एक ट्रैक्टर सेल्समेन द्वारा दर्ज कराया गया था. उसने आरोप लगाया कि उसे डराया धमकाया गया है.

मुंबई में पहली एफआईआर रात को 2 बजकर 28 मिनट पर एक फूड वेंडर द्वारा दर्ज की गई थी जो साइबर फ्रॉड का शिकार हो गया और उसने अपने 73 हजार रुपये गंवा दिए.

गुजरात पुलिस ने पहली एफआईआर सुबह 1 बजे एक मोटरसाइकिल चालक के खिलाफ दर्ज की थी.

 

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours