लोकसभा चुनाव में पीएम का दावा कोई स्पष्ट सोच की ओर कर रहा इशारा, देश में कोर्ट को बचाने के लिए लोकतंत्र बचाना जरुरी: सुप्रियो

Ranchi: आगामी लोकसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है. वैसे-वैसे राजनीतिक पार्टीयों की  बयानबाजी शुरू हो गयी है. सदन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 400 लोकसभा सीट जीतने के दावे पर बुधवार को जेएमएम के केंद्रीय महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि पूरा देश लोकसभा चुनाव की तैयारी की ओर बढ़ रहा है. प्रधानमंत्री ने दो सदनों में तीसरी बार चुनाव जीतने और 400 से अधिक सीट जीतने का दवा कर रहे हैं. देश में जो हालात हैं, जो संघर्ष चल रहा है और ऐसे में अगर कोई व्यक्ति ऐसा बोल रहा है. तो उसके पीछे कोई स्पष्ट सोच है. वह सोच है भारत में लोकतंत्र को समाप्त करना. सर्वोच्च न्यायालय ने भरी अदालत में कहा कि लोकतंत्र की हत्या हो रही है. सीधे तैर पर भाजपा की संलिप्तता है.

चंडीगढ़ मेयर चुनाव में हुई लोकतंत्र की हत्या

चंडीगढ़ में मेयर के चुनाव में हुआ वह देश से छुपा नहीं हैं. लोकतंत्र की हत्या महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, बिहार और ताजा झारखंड में हुआ हैं. भाजपा की मानसिकता खुली किताब हैं. प्रधानमंत्री संसद में बोल रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट अपने कक्ष में बोल रहा है. अब यह स्पष्ट है कि चुनाव मात्र एक अवसर होगा नतीजा तय है.

अब राजभवन में सीएम की होती है गिरफ्तारी

एक मुख्यमंत्री राजभवन में होता है और उसे गिरफ्तार कर लिया जाता है. अब ऐसा लग रहा है कि अगर हम अपनी फरियाद लेकर न्यायालय जाएं तो ऐसा नहीं की हमे वहीं फांसी दे दी जाए. जो जल्लाद का काम होता है. अब वह काम बीजेपी का पदाधिकारी कर रहे है. बहुत बड़ी बात झारखंड में भाजपा के नेता ने की है. उनकी बातों से ही स्पष्ट हो गया कि जो भी विपक्ष है, उसका हेमंत सोरेन टारगेट है. वह आरोपी नहीं है, टारगेट है. और टारगेट को शूट करना है. ये परिकल्पना कोई नहीं किया था.

देश में आपात काल जैसे हालात लोगो को दबाने की हो रही कोशिश

मैं अबोध था जब आपातकाल लगा था. लेकिन जो बोध है, उनसे हम कहानी सुनते थे. कि उसका दबाने के लिए धाराएं लगाई जाती थी. उसमे मीसा कानून भी आया था. अब उससे भी डरावना काम केंद्रीय जांच एजेंसीया कर रही है. जो अपराध है. जिसपर चार्ज शीट है, वह न केवल विधानसभा में बैठता है. बल्कि मंत्री भी बनता है. केवल एक गारंटी होनी चाहिए की वो भाजपा में हो, अगर वह भाजपा में नहीं हो तो वह देशद्रोही है और पाकिस्तानी है. मुझे लगता है कि सुप्रीम कोर्ट लोकतंत्र को लेकर जो कह रहा है. उसपर सोचना चाहिए की अदालत को बचाना है या नहीं बचाना है. यदि अदालत को बचाना है तो लोकतंत्र को बचाना होगा. मुझे यह भी शंका है कि अब चुनाव होगा या नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें: 

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours