Atishi Hunger Strike: भूख हड़ताल से आप नेता आतिशी की तबीयत बिगड़ी, LNJP अस्पताल में कराया भर्ती

New Delhi: दिल्ली की मंत्री आतिशी (Atishi) की तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आतिशी को मंगलवार तड़के लोक नायक जय प्रकाश नारायण (एलएनजेपी) अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आतिशी का दावा है कि हरियाणा सरकार दिल्‍ली को प्रतिदिन 100 मिलियन गैलन (एमजीडी) पानी नहीं दे रही है, जिसके कारण दिल्‍ली में जल संकट पैदा हो गया है. इसी कारण से आतिशी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर थीं. आतिशी की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल मंगलवार को पांचवें दिन में प्रवेश कर गई.

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने जानकारी दी कि दिल्ली की मंत्री आतिशी का ब्लड शुगर लेवल गिरकर 36 हो गया है, जिसके कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्‍होंने कहा, “रात से उनका ब्लड शुगर लेवल गिर रहा था. हमने उनका ब्लड सैंपल जमा किया तो उनका शुगर लेवल 46 आया. जब हमने पोर्टेबल मशीन से उनका शुगर लेवल चेक किया तो उनका शुगर लेवल 36 निकला.” डॉक्टर उनकी जांच कर रहे हैं और उसके बाद ही कोई सुझाव देंगे.”
उन्होंने कहा कि हरियाणा दिल्ली के हिस्से का पानी नहीं दे रहा है. आतिशी ने 22 जून को हरियाणा द्वारा दिल्ली के पानी का हिस्सा जारी नहीं करने के विरोध में अपनी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की थी.

इससे पहले, आम आदमी पार्टी (आप) ने कहा कि डॉक्टरों ने आतिशी की बिगड़ती सेहत को देखते हुए उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी है, लेकिन वह “अपनी जान जोखिम में डालकर” दिल्ली के पानी के उचित हिस्से के लिए लड़ रही हैं.

आप के बयान के अनुसार, आतिशी की स्वास्थ्य जांच से पता चला कि उनके रक्तचाप और शर्करा के स्तर में भारी गिरावट आई है. पार्टी ने कहा, जिस तेजी से आतिशी का ब्लड शुगर लेवल और ब्लड प्रेशर गिरा है, उसे डॉक्टरों ने खतरनाक बताया है.

आप ने कहा कि 28 लाख दिल्लीवासियों के जल का अधिकार सुनिश्चित करने के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठी जल मंत्री आतिशी ने कहा है कि जब तक हरियाणा सरकार दिल्लीवासियों का जल अधिकार नहीं दिलाती और हथिनीकुंड बैराज के गेट नहीं खोले जाते तब तक उनकी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल जारी रहेगी.

आप ने आरोप लगाया है कि पड़ोसी राज्य हरियाणा हर दिन 100 मिलियन गैलन प्रति दिन (एमजीडी) कम पानी की आपूर्ति कर रहा है, जिससे दिल्ली में 28 लाख लोगों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है, जिससे पानी की कमी की समस्या बढ़ गई है.

 

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours