पहले लोग सेकेंड हैंड या रिफर्बिश्ड मोबाइल नहीं खरीदने से कतराते थे, लेकिन अब लोगों का मिजाज बदल गया है। सेकेंड हैंड स्मार्टफोन का बाजार पिछले दो सालों में काफी तेजी से बढ़ा है। अभी हाल ही में कई ई-कॉमर्स साइट पर फेस्टिव सीजन सेल हुई थी जिसमें रिफर्बिश्ड मोबाइल खूब बिके हैं। अब सवाल यह है कि आखिर अमेजन और फ्लिपकार्ट पर इतनी भारी संख्या में रिफर्बिश्ड आ कहां से रहे हैं तो इसका जवाब एक्सचेंज ऑफर है। 
दरअसल तमाम ई-कॉमर्स कंपनियां स्मार्टफोन और अन्य गैजेट के साथ बढ़िया एक्सचेंज ऑफर दे रही हैं। ऐसे में भारी मात्रा में लोग अपने पुराने फोन को एक्सचेंज करके नया फोन खरीद रहे हैं। कंसल्टिंग फर्म techaARC की रिपोर्ट के मुताबिक स्मार्टफोन बाजार में रिफर्बिश्ड मोबाइल 8.1 फीसदी हो गई है।

ये भी पढ़ेंः यहां सिर्फ 24 हजार रुपये में मिल रहा है iPhone 7, दूसरे फोन भी मिल रहे सस्ते में

ई-कॉमर्स साइट से 20-25 फीसदी स्मार्टफोन एक्सचेंज ऑफर के तहत खरीदे जा रहे हैं। इसकी जानकारी टेकआर्क ने ही दी है। भारत में सेकेंड स्मार्टफोन का बाजार 9 फीसदी की दर से आगे बढ़ रहा है। एक्सचेंज के अलावा कई लोग कैशिफाई, टोगोफोगो और 2gud जैसी साइट पर सीधे तौर पर अपना फोन बेच रहे हैं और वहां से मिले पैसे से नया फोन खरीद रहे हैं।

सेकेंड हैंड प्रोडक्ट को बेचने वाली साइट Cashify पर फेस्टिव सीजन में 150 फीसदी का ग्रोथ देखा गया। वहीं फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियां बायबैक ऑफर दे रही हैं। ऐसे में लोग फोन को 6-12 महीने इस्तेमाल करने के बाद एक्सचेंज करके नया फोन ले रहे हैं। कैशिफाई के फाउंडर और सीईओ मनदीप मनौचा के मुताबिक फ्लिपकार्ट, अमेजन जैसी साइट से सेकेंड हैंड फोन 25-45 फीसदी कम कीमत (नई डिवाइस के मुकाबले) पर मिल जाते हैं। ऐसी डिवाइस में हर महीने 15 फीसदी तक का इजाफा हो रहा है।
 
हो सकता है कि कई लोगों को रिफर्बिश्ड फोन की क्वालिटी पर भरोसा नहीं हो सकता है। तो आपको बता दें कि कंपनियां रिफर्बिश्ड फोन को कई तरह की टेस्टिंग के बाद उनकी कंडीशन के आधार पर अच्छा, बहुत अच्छा जैसे टैग देती हैं। साथ ही रिफर्बिश्ड फोन के साथ भी वारंटी भी मिलती है। ऐसे में आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। अब सेकेंड हैंड फोन का कई पैमानों के आधार पर परीक्षण किया जाता है और उन्हें रिपेयर करने के बाद रिफर्बिश्ड का टैग दिया जाता है।