सिरदर्द की समस्या अब 5-14 वर्ष की उम्र के बच्चों को ज्यादा होने लगी है। ऐसा कई कारणों से होता है, जानते हैं उनके बारे में।

प्रमुख वजह : बुखार या उससे जुड़े वायरल इंफेक्शन, सायनस में संक्रमण, बैक्टीरियल इंफेक्शन से टॉन्सिल्स बढ़ने पर, तनाव, नींद पूरी न होने से, भूखे रहने से ब्लड शुगर लेवल कम होने पर, सिर में गांठ या चोट लगने से, माइग्रेन, कम उम्र में ही चश्मा लग जाने और आंखों से संबंधित कोई परेशानी होने पर बच्चों को सिरदर्द की समस्या हो सकती है। लेकिन बच्चे को अगर सुबह उठते ही सिरदर्द, उल्टी, चक्कर या एक ही चीज दो-दो दिखने लगे तो उसे फौरन डॉक्टर के पास लेकर जाएं।

ध्यान रहें ये बातें –
शिशु रोग विशेषज्ञ के अनुसार जिन बच्चों को माइग्रेन हो उन्हें शांत और अंधेरे कमरे में सुलाएं जिससे उन्हें नींद ठीक से आए। ऐसे बच्चे जिन्हें चॉकलेट खाने से सिरदर्द की समस्या हो, उन्हें इससे परहेज कराएं ताकि रोग आगे न बढ़े। माता-पिता बच्चों को एक घंटे से ज्यादा टीवी या वीडियोगेम्स आदि का प्रयोग न करने दें।