अगर आप कमर या गले संबंधी समस्या से परेशान हैं तो मत्स्यासन लाभकारी हो सकता है। जानते हैं इसके बारे में।
लाभ : यह आसन रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है और रक्त संचार दुरुस्त करता है। यह थायरॉइड, डायबिटीज, सर्वाइकल, अग्नाशय और पाचनतंत्र के लिए भी लाभकारी है।
ऐसे करें : सबसे पहले पदमासन में बैठें। दोनों कोहनियों को जमीन पर लगाकर शरीर को पीछे की ओर झुकाते हुए जमीन तक लाएं। अब दोनों हथेलियों को कान के पास जमीन पर लाएं व हथेलियों पर वजन देते हुए सिर को जितना पीछे ले जा सकते हों लेकर जाएं ताकि शरीर का बोझ सिर पर आ जाए। अब दोनों हाथों से पैरों के अंगूठे को पकड़ें व क्षमतानुसार रुकें। कोहनी की सहायता से वापस मुद्रा में आ जाएं। यह प्रक्रिया 2-5 बार दोहराएं
सावधानी : स्लिप डिसक की समस्या, घुटनों में दर्द, हाई ब्लड प्रेशर व रीढ़ संबंधी समस्या होने पर इसे न करें। इस आसन को सुबह के समय खाली पेट करें।
ध्यान रहे : 14 साल से कम उम्र के बच्चे इसे करते हुए अंतिम मुद्रा में न रुकें।