फाइबर यानी रेशेदार भोजन शरीर के कई अंगों को फायदा पहुंचाता है। एक्सपर्ट के मुताबिक रोजाना कम से कम 25 ग्राम फाइबर भोजन में होना चाहिए। इसके लिए अपनी डाइट में बादाम, टमाटर, ब्रोकली, पालक, दालें, राजमा, उबले मकई के दाने, अंजीर, नाशपाती, खजूर, खोपरा, अलसी के बीज, मूली और शकरकंदी आदि लें।

स्ट्रोक का खतरा नहीं –
रोजाना की डाइट में सात ग्राम फाइबर और जोड़ लेने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा सात फीसदी कम हो सकता है।

किसमेें कितना फाइबर –
100 ग्राम ओट्स में करीब 1.7 ग्राम फाइबर होता है।
100 ग्राम उबली हुई दाल में 8 ग्राम फाइबर होता है।
100 ग्राम अलसी के बीज में 27 ग्राम फाइबर होता है।
100 ग्राम सेब में 2.4 ग्राम फाइबर होता है।

हार्ट- 07 ग्राम फाइबर लेने से हार्ट डिजीज का खतरा नौ फीसदी कम हो जाता है क्योंकि फाइबर में कोलेस्ट्रॉल घटाने की शक्ति होती है।

कमर- जो लोग 30 ग्राम या इससे ज्यादा फाइबर रोजाना डाइट में शामिल करते हैं उनकी कमर का घेरा नहीं बढ़ता है और वजन नियंत्रित रहता है।

किडनी- रोजाना 21ग्राम से ज्यादा फाइबर से भरपूर डाइट लेने से किडनी स्टोन की आशंका को 22फीसदी तक घटाया जा सकता है।

फेफड़े- फाइबर से ब्रोंकाइटिस, अस्थमा एवं फेफड़े संबंधी कई रोगों का खतरा कम होता है।