वजन कम यानी फिट
तथ्य: वजन कम यानी फिटनेस नहीं। ओवर वर्कआउट, वेट लॉस सप्लीमेंट्स, क्रैश डाइटिंग Workout, weight loss supplements, crash dieting आदि तरीकों से वजन कम करने पर ज्यादातर मसल्स के आसपास का फैट ही कम होता है। ऐसे में वजन कम होता है लेकिन इलेक्ट्रोलाइट इंबैलेंस, कमजोरी और पोषक तत्वों Electrolyte Imbalance, Weakness and Nutrients की कमी होने लगती है।
कार्ब से बढ़ता मोटापा
तथ्य:ज्यादातर लोग यही सोच कर कार्ब को अपनी डाइट से दूर कर देते हैं। लेकिन हकीकत में सिंपल कार्ब जैसे चीनी, फू्रट जूस, रिफाइंड आटा के बजाय डाइट में कॉम्प्लैक्स कार्ब जैसे साबुत अनाज, फल, सब्जियां आदि को शामिल करें तो मेटाबॉलिक रेट बढऩे से वजन घटता है।
देर रात भोजन करने से वजन बढ़ेगा
तथ्य: अगर आप खाते रहेंगे और कैलोरी बर्न करने के लिए किसी तरह की शारीरिक क्रिया नहीं करेंगे तो वजन बढ़ेगा। देर रात खाना खाते ही सो जाने से वजन पर नहीं बल्कि पाचनक्रिया पर असर पड़ता है। ज्यादा खाने और एक्सरसाइज न करने से अतिरिक्त कैलोरी फैट के रूप में शरीर में जमा होती है।
फैट खाने से वजन बढ़ेगा
तथ्य: ज्यादा मात्रा में कार्ब, हाई कैलोरी, जंक फूड के साथ अधिक फैट लेने से वजन बढ़ता है। ऐसे में जब तक कैलोरी नियंत्रित मात्रा में हो तब तक फैट लेने से वजन भी नियंत्रित रहता है। शरीर की जरूरत के अनुसार कॉम्प्लैक्स कार्ब ले सकते हैं।
वजन घटाने में न्यूट्रीशनल सप्लीमेंट्स कारगर
तथ्य: शरीर में स्टूल के जरिए फैट बाहर निकलने पर फैट सॉल्युएबल विटामिन्स जैसे ए, डी, ई व के की कमी होनी लगती है। जो सेहत के लिए नुकसानदेह है। ये सप्लीमेंट्स स्टूल की फ्रीक्वेंसी बढ़ा देते हैं।
डाइटिंग से वजन जल्दी कम होता है, कम खाएं
तथ्य: खाने में कमी करने से वजन कम होता है। इस सोच से ज्यादातर लोग नाश्ता, लंच या डिनर स्किप करते हैं। यह गलत है। वजन कम करने के दौरान कुछ न खाने की बजाय हर ३ घंटे में थोड़ा खाएं।
दुबले पतले लोग ज्यादा हैल्दी होते हैं
तथ्य: मोटापे से कई गंभीर रोग जैसे टाइप-2 डायबिटीज, हृदय रोग, ब्लड प्रेशर आदि जुड़े हैं। हालांकि कई लोग मोटे होने के बाद भी स्वस्थ हैं व कई पतले लोग बीमार हैैं। दरअसल पेट या अंगों के आस-पास ज्यादा फैट जमा होने से रोगों की आशंका बढ़ती है।