बालों को झड़ने से बचाने के लिए तेल का प्रयोग भी फायदेमंद होता है। सरसों या तिल का तेल घर से बाहर निकलते वक्त नाक में डाल लें। अणु का तेल भी नाक में डालने से फायदा मिलता है। बालों के सफेद होने की समस्या में भी यह कारगर है।

किचन में भी उपाय –
मेथी के चूर्ण में एलोवेर और पानी मिलाकर उसे गीला कर उसका लेप बालों में लगाएं। 15-20 मिनट बाद धुल लें। डैंड्रफ के लिए नीम के तेल में कपूर मिलाकर सिर की मसाज करें। दही व नींबू के पेस्ट से मसाज कर धुल लें। रीठा व शिकाकाई से बालों को धुलना ठीक रहता है। गीले बालों में तेल न लगाएं।

आयुर्वेद से –
बालों का झड़ना आम समस्या हो गई है। बालों के झड़ने के कई कारण होते हैं। उम्र, डैंड्रफ और सही मात्रा में पोषक तत्वों का न मिलना होता है। आयुर्वेद में ऐसे कई उपचार हैं जिनसे बालों के झड़ना रोक सकते हैं।

ऐसे बनाएं –
भृंगराज रसायन, भृंगराज व आंवला चूर्ण, मिश्री, काली तिल पीसकर सुबह-शाम पांच ग्राम पानी के साथ लें, फायदा मिलेगा। तनाव से बाल झडऩे पर सिर पर तेल-दूध की धारा छोड़ते हैं, जिसे सिरोधारा कहते हैं।