Nerves Recovery: नसों के दर्द से राहत के लिए अपनाएं ये नेचुरल तरीके

Nerves Recovery Naturally In Hindi: हमारी नर्वस हमारे शरीर को गतिशील रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। ये मांसपेशियों को नियंत्रित करती हैं, आपकी सांस को नियंत्रित करती हैं और आपको ठंडा या गर्म तापमान महसूस करने में सक्षम बनाती हैं। ऑटोइम्यून बीमारियों, आघात (दुर्घटना), मधुमेह, पोषण संबंधी कमियों और संक्रामक रोगों जैसे कई कारकों से तंत्रिका क्षति ( Nerve Damage ) हो सकती है।

तंत्रिका क्षति के लक्षणों में से कुछ में यौन रोग, मूत्राशय की शिथिलता, कमजोरी, सुन्नता, मांसपेशियों में दर्द, सूखी आंखें और मुंह, हाइपरहाइड्रोसिस (अत्यधिक पसीना) या एनहिरोडिस (बहुत कम पसीना) आदि शामिल हैं। लेकिन अच्छी बात ये है कि हमारे पास कुछ नेचुरल उपचार भी है जो तंत्रिका क्षति के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में प्रभावी हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में :-

मछली
सामन, सार्डिन और ब्लैक कॉड जैसी मछलियां ओमेगा -3 फैटी एसिड में समृद्ध हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार इनका सेवन तंत्रिका क्षति को रोकने के साथ इसका इलाज भी कर सकता हैं। डीएचए या डोकोसाहेक्सैनोइक एसिड तंत्रिका कोशिकाओं के सुरक्षात्मक कोटिंग माइलिन बनाता है। डीएचए एक ओमेगा -3 फैटी एसिड है जो आमतौर पर मछली जैसे समुद्री भोजन में पाया जाता है। अपनी तंत्रिकाओं को मजबूत करने और क्षति को रोकने के लिए रोजाना एक मछली का सेवन करें।

लॉयन मशरूम
लॉयन मशरूम, जिसे हेजहोग मशरूम या सफेद जेली कवक के रूप में भी जाना जाता है, का चीन, भारत, जापान और कोरिया जैसे एशियाई देशों में खाने और चिकित्सा दोनों उपयोग होता है। यह आपके मस्तिष्क की रक्षा भी कर सकता है, आपके मूड अच्छा रखता है और सूजन को कम कर सकता है। यह मशरूम शरीर के तंत्रिका विकास कारक को उत्तेजित करता है और उनकी वृद्धि को बढ़ाता है। विशेषज्ञो के अनुसार तंत्रिका क्षति को कम करने के लिए प्रतिदिन दो बार मशरूम के
सप्लीमेंट लेने चाहिए।

एक्यूपंक्चर
सदियों से, एक्यूपंक्चर का उपयोग एशिया में कई स्थितियों का इलाज करने और दर्द को दूर करने के लिए किया जाता है। इसमें खास बिंदुओं पर त्वचा में बारीक सुइयों को चुभोया जाता है। प्रभावित क्षेत्र के विशिष्ट बिंदुओं पर दबाव लागू करने से रक्त परिसंचरण में सुधार हो सकता है। यह बदले में नसों में दर्द से राहत प्रदान कर सकता है और तंत्रिका क्षति को कम कर सकता है।

हल्के व्यायाम
सीढ़ियों पर चलना या चढ़ना जैसे सरल व्यायाम आपके रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने और तंत्रिकाओं को ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने और क्षति को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। हर दिन 10-15 मिनट की छोटी सैर करने से आपकी नसों को मजबूत बनाने में मदद मिल सकती है।