राजस्थान के कर्इ जिलों में महिलाआें के बाल काटने की खबरें आने के बाद लोगों में दहशत है। अब एेसी ही खबरें देश के अन्य इलाकों से भी आ रही हैं। हालांकि करीब एक दशक से ज्यादा वक्त पहले भी इस तरह की खबरें खूब सामने आर्इ थीं जब मंकी मैन आैर मुंहनोचवा के आतंक ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया था। हालांकि आज न मंकी मैन की चर्चा है आैर न ही मुंहनोचवा की कोर्इ खबर है। उस दौर में ये अफवाहें इतनी प्रबल थीं कि हर शख्स के पास उस तरह की घटनाआें की एक अलग कहानी थी। टीवी चैनल्स से लेकर अखबारों के पन्ने एेसी कहानियाें से भरे पड़े थे। हालांकि वक्त गुजरने के साथ वे खबरें बंद हो गर्इ आैर इसी के साथ बंद हो गया वो आतंक। क्या बाल काटने की घटनाएं भी उसी तरह से बंद हो जाएंगी? ये बड़ा सवाल है। हालांकि हमें उन घटनाआें के बारे में जरूर जानना चाहिए जो अचानक से चर्चा में आर्इ आैर अचानक ही चर्चा से बाहर हो गर्इं।



मंकी मैन की दहशत
आपको याद होगा जब दिल्ली में मंकी मैन का आतंक छाया था। यहां तक की एक फिल्म में भी उसका बाकायदा जिक्र किया गया। सन 2001 के मर्इ में मंकी मैन का आतंक इस कदर दिल्ली वालों के जेहन में था कि वे लाठी-डंडे लेकर घरों के बाहर पहरा लगाते नजर आए थे। साथ ही बहुत से लोगों ने छतों पर सोने के बजाय गर्मी में कमरों में सोना शुरू कर दिया था। इसके साथ ही मंकी मैन के हमले की एक-दो नहीं बल्कि कर्इ खबरों की शक्ल में सामने आए थे। उस वक्त कुछ लोगों को इन अफवाहों के चलते हाथ तक धोना पड़ा था, जिसके बारे में सुनकर लोग आैर दहशत से भर उठे थे। कल्पना करने वालों ने उसे एेसे बंदर के रूप में परिभाषित किया जो लंबी छलांग लगाता है, बड़े नाखून रखता है आैर कभी भी किसी पर हमला कर देता है। यहां तक की इसके लिए जादू से पाकिस्तानी साजिश तक को जिम्मेदार ठहराया गया था।



मुंहनोचवा का आतंक
उत्तर प्रदेश में भी अफवाह की एेसी खबरों ने 2000 में जमकर बवाल काटा था। शुरुआत में लोमड़ी जैसा कोर्इ जानवर है जिसके पंख है। वह रात के अंधेरे में हमला करता है आैर लोगों का मुंह नोच लेता है। बाद में शरीर के ऊपर का हिस्सा लोमड़ी का आैर नीचे का हिस्सा मनुष्य का बताया गया। बस लोगों ने इन घटनाआें को सच मान लिया आैर ये सब मुंहनोचवा के आतंक के रूप में सामने आया। कुछ लोगों के चेहरे पर चोट आैर खरोंच के निशान भी मिले थे।  हालांकि कुछ वक्त बाद ये घटनाएं अपने-अपने समाप्त हो गर्इं।



मुंबर्इ में भी मंकी मैन
दिल्ली के अलावा मुंबर्इ में भी मंकीमैन की दहशत रही। लोगों को जख्मी करने की खबरों से लोग दहल उठे थे। मुंबर्इ में एक बार जोर-शेार से मंकी मैन का शोर उठा लेकिन फिर कहां दब गया किसी को नहीं पता।



मुंह सुअर जैसा, धड़ महिला जैसा
2014 में अचानक ये अफवाह फैली की जयपुर जंतुआलय में एक विचित्र जीव है, जिसका शरीर महिला का है और मुंह जंगली सुअर जैसा है। बस फिर क्या था। अजीबोगरीब जानवर को लेकर उड़ी अफवाह से जयपुर जंतुआलय में बड़ी संख्या में लोग उमड़े। जंतुआलय प्रशासन लोगों को इस अफवाह के बारे में बताते-बताते थक गया, लेकिन लोग कुछ मानने को तैयार नहीं हुए। हालांकि इस अफवाह के चलते जंतुआलय प्रशासन की कमार्इ में जबरदस्त इजाफा हुआ।