NTA ने NEET-UG 2024 विवाद पर दिया सारे सवालों के जवाब

1 min read

NEET Compensatory Marks: NEET-UG 2024 विवाद के मद्देनजर , नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) परीक्षा प्रक्रिया की अखंडता को लेकर जांच के सेंटर में रही है. पेपर लीक और रिजल्ट की वैधता पर चिंताओं समेत अनियमितताओं के आरोपों ने स्टूडेंट्स, अभिभावकों और राजनीतिक नेताओं के बीच आक्रोश है.

एनटीए ने कहा- नीट यूजी 2024 के अभ्यर्थियों द्वारा कुछ केंद्रों पर एग्जाम के दौरान उनका समय बर्बाद होने के चलते उच्च न्यायालयों के समक्ष कुछ याचिकाएं दायर की गई थीं. इसके बाद एक शिकायत निवारण समिति का गठन किया गया, जिसने पदाधिकारियों की तथ्यात्मक रिपोर्टों और संबंधित परीक्षा केंद्रों से सीसीटीवी फुटेज के आधार पर शिकायतों पर विचार किया. समय की बर्बादी की भरपाई के लिए इन स्टूडेंट्स को ग्रेस मार्क्स दिए गए.

एनटीए ने कहा- पता लगाया कि उन स्टूडेंट्स का कितना समय बर्बाद हुआ था और ऐसे उम्मीदवारों की उत्तर देने की क्षमता कितनी है, इस आधार पर उन्हें ग्रेस मार्क्स दिए गए. सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 13 जून 2018 को दिए गए निर्णय से तय किए एक फॉर्मूले के आधार पर इन्हें ग्रेस मार्क्स दिए गए. कुल 1563 उम्मीदवारों को टाइम लॉस होने के चलते ग्रेस मार्क्स दिए गए.

कोई उम्मीदवार 718 और 719 अंक कैसे प्राप्त कर सकता है?
एनटीए ने कहा- ग्रेस मार्क्स के कारण दो उम्मीदवारों को 718 और 719 नंबर मिले.

क्या 1563 के अलावा कोई और उम्मीदवार था जिसे ग्रेस अंक मिले?
नहीं, उन 1563 उम्मीदवारों को उनके समय खराब होने की भरपाई के लिए ग्रेस मार्क्स दिए गए थे

फिजिक्स के एक सवाल के दो सही उत्तर होने के चलते 44 अभ्यर्थियों का पूरा स्कोर 720 में से 720 रहा. क्या उन्हें भी ग्रेस मार्क्स मिले थे?
नहीं, जैसा कि पहले कहा गया था, ग्रेस मार्क्स केवल समय बर्बाद होने की भरपाई के लिए मुआवजे के तौर पर दिए गए थे.

एनटीए ऐसे हाई स्कोर की प्रामाणिकता कैसे सुनिश्चित करता है?
एनटीए ने परीक्षा की शुचिता बनाए रखने के लिए कई कदम उठाए. इसमें बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन, सीसीटीवी निगरानी और परीक्षा के दौरान सख्त निगरानी शामिल है. परीक्षा के बाद, एनटीए ने सीसीटीवी फुटेज अच्छी तरह चेक की. साथ ही यह भी चेक किया कि नीट के टॉपर स्कोरर्स पढाई लिखाई में कैसे रहे हैं.

फटी ओएमआर शीट पर क्या है कहना?
नीट यूजी की एक अभ्यर्थी के वायरल वीडियो के संबंध में जिसमें नीट यूजी 2024 के स्कोरिंग में गड़बड़ियों का दावा किया गया है और फटी हुई OMR आंसर शीट एनटीओ की ओर मेल में मिलने के बारे में कहा गया है, इस पर कहा कि कोई भी फटी हुई ओएमआर आंसरशीट एनटीए के आधिकारिक आईडी से नहीं भेजी गई थी. आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार ओएमआर आंसरशीट सही है और स्कोर सटीक हैं.

क्या गलत था फिजिक्स का सवाल?
एनटीए ने बताया कि फिजिक्स में एक सवाल की प्रोविजनल आंसर-की के लिए 13,373 आपत्तियां मिली थी. एनसीईआरटी की किताब के पुराने और नए वर्जन में अंतर के कारण सब्जेक्ट एक्सपर्ट ने माना कि इस सवाल के लिए एक ऑप्शन की जगह पर दो ऑप्शन को सही माना जाना चाहिए.

.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours