चुनाव आयोग का फैसला- PM मोदी, राहुल गांधी और अमित शाह के भाषण पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Election 2019 ) के चार चरणों की वोटिंग खत्म हो चुकी है। नेताओं ने इस दौरान वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए जमकर चुनाव प्रचार किया। इस दौरान बेतुके और भड़काऊ बयान देकर आचार संहिता ( model code of conduct ) का उल्लंघन भी खूब किया। चुनाव आयोग ऐसे बयान देने वालों पर कई कार्रवाई कर चुका है। अब आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ), बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ( Amit Shah ) और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) के बयानों चर्चा करने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें: गिरिराज सिंह को विवादित बयान पर चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस, 24 घंटे में मांगा जवाब

तीनों नेताओं के भाषण पर आयोग की नजर

भारत निर्वाचन आयोग ( Election Commission ) से पास कांग्रेस ने पीएम मोदी और शाह के भाषणों की शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने भी राहुल गांधी पर गलत बयान देने का आरोप लगाते हुए आयोग ने शिकायत की थी। मंगलवार को चुनाव आयोग की बैठक में अब दोनों दलों के इन तीनों नेताओं के भाषणों पर चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें: आसनसोल मेंं पोलिंग बूथ में हिंसा पर EC सख्त, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो पर FIR का आदेश

किस पर है क्या आरोप

पीएम नरेंद्र मोदी: कांग्रेस का आरोप है कि पीएम ने चुनावी रैली में पुलवामा आतंकी हमले और भारतीय वायुसेना की ओर के पाकिस्तान के बालाकोट में किए गए एयर स्ट्राइक का जिक्र किया।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह: कांग्रेस के मुताबिक लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान शाह ने भारतीय सेना को ‘मोदी की सेना’ कहा।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी: बीजेपी की शिकायत है कि राहुल गांधी अपनी चुनावी रैलियों, सभाओं और मीडिया से बात करते हुए ‘चौकीदार चोर है’ के नारे लगाते हैं।

यह भी पढ़ें: ममता बनर्जी का पीएम मोदी पर तंज, वे पुराने दिनों के कालिदास की तरह

कांग्रेस ने आयोग पर लगाए थे आरोप

बता दें कि कांग्रेस लगातार आरोप लगा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ उसकी शिकायत पर चुनाव आयोग कार्रवाई नहीं कर रहा है। सोमवार को आयोग से मुलाकात के बाद कांग्रेस नेताओं ने कहा कि एक अप्रैल से अब तक मोदी के खिलाफ 10 शिकायतें दर्ज कराई गई हैं, लेकिन आयोग इन शिकायत को न खारिज कर रहा है और ना ही उसे स्वीकार कर रहा है। मोदी देश के प्रधानमंत्री जरूर हैं लेकिन वह देश के एक नागरिक की हैसियत से चुनाव मैदान में हैं इसलिए उनके लिए आयोग के पास अलग नियम नहीं होना चाहिए। मोदी के खिलाफ कांग्रेस 72 घंटे का प्रतिबंध लगाने की मांग कर रही है।

Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..