नई दिल्ली। कर्नाटक और गोवा में सियासी संकट को लेकर देश में राजनीति गरमा गई है। इस राजनीतिक ड्रामा के लिए सभी पार्टियां भाजपा ( BJP ) को जिम्मेदार ठहरा रही हैं। वहीं, बुधवार को कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने इस मुद्दे को लेकर संसद के बाहर बीजेपी के खिलाफ प्रदर्शन किया।

पिछले कुछ दिनों से देश में कर्नाटक का मुद्दा गरमाया हुआ है। वहीं, बुधवार को गोवा में कांग्रेस के 10 विधायकों के बीजेपी में शामिल होने से अचानक सियासी हलचल और तेज हो गई है।

सदन में इन दोनों मुद्दों को उछाला जा सकता है। लेकिन, उससे पहले संसद के बाहर कांग्रेस के नेताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। इस विरोध प्रदर्शन में यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और राहुल गांधी भी शामिल हुए। राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का यह प्रदर्शन कर्नाटक और गोवा की समस्या को लेकर है।

पढ़ें- कर्नाटक क्राइसिस: सुप्रीम कोर्ट का रुख सख्‍त, बागी विधायकों पर विधानसभा स्पीकर को आज ही करना होगा फैसला

 

विरोध प्रदर्शन में TMC-SP-RJD भी शामिल

कांग्रेस पार्टी के इस विरोध प्रदर्शन में तृणमूल कांग्रेस ( TMC ), समाजवादी पार्टी ( Samajwadi Party ), NCP , राष्ट्रीय जनता दल ( RJD D ), सीपीआई एम ( cpim ) भी शामिल हुए।

सभी ने एक सुर में बीजेपी के खिलाफ हल्ला बोला है। सभी विपक्षी पार्टियों का कहना है कि कर्नाटक और गोवा में सियासी संकट के लिए बीजेपी जिम्मेवार है।

पढ़ें- कांग्रेस का सबसे बुरा दौर, कर्नाटक, गोवा समेत 3 राज्यों में मुश्किल में पार्टी

 

हालांकि, इस मामले को लेकर अभी तक BJP की ओर से कोई बयान नहीं आया है। लेकिन, कर्नाटक में सियासी संकट को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में कहा था कि बीजेपी इसके लिए जिम्मेवार नहीं है। उन्होंने कहा था कि हमारी पार्टी ने विधायकों की खरीद-फरोख्त नहीं की है।

गौरतलब है कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के 16 विधायक अब तक इस्तीफा दे चुके हैं। इनमें 13 कांग्रेस के और तीन जेडीएस के शामिल हैं।

 

rjd-sp-tmc protest

इस इस्तीफे से कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर संकट के बादल छाए हुए हैं। हालांकि, मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ( HD Kumaraswamy ) ने कहा है कि उन्हें इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है क्योंकि उनके पास बहुमत है।

मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है। इधर, बुधवार को गोवा में कांग्रेस के 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए हैं। अब देखना यह है कि इस सियासी संकट का क्या परिणाम निकलता है?