नई दिल्ली। कर्नाटक में चल रहे सियासी संकट ( Karnatak Political crisis ) के बीच कांग्रेस के संकटमोचक बने डीके शिवकुमार ( dk shivkumar ) ने मुंबई में डेरा जमा लिया है। शिवकुमार मुंबई में उसी होटल के बाहर अपना डेरा डाले हुए हैं जहां 10 बागी विधायक ( Rebel MLA ) फिलहाल रह रहे हैं। बुधवार सुबह से ही डीके शिवकुमार होटल के बाहर इस आस में खड़े हैं कि उनकी मुलाकत बागी विधायकों से हो जाएगी। हालांकि होटल प्रबंधन सुरक्षा और इमरजेंसी का हवाला देकर उन्हें अंदर नहीं जाने दे रहा है।

बुधवार सुबह से होटल के बाहर इंतजार कर रहे कांग्रेस के संकटमोचक शिवकुमार ने होटल से ही अपने खाने-पीने की व्यवस्था भी की है। दरअसल इस होटल में ही शिवकुमार ने अपना कमरा भी बुक कराया था, जिसे होटल प्रबंधन ने कैंसल कर दिया है। हालांकि शिवकुमार की माने तो एक अन्य होटल में भी उनका कमरा बुक है औऱ उन्हें रहने की कोई चिंता नहीं है।

मौसमः अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश के बाद बाढ़ में कई लापता, उत्तराखंड में खतरे के निशान पर गंगा

कर्नाटक में कुर्सी के लिए शुरू हुआ घमासान अपने चरम पर है। यहां लगातार सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच घटनाक्रम बदलता जा रहा है। इस बीच कुमारस्वामी की सरकार बचाने के लिए नाराज विधायकों को मनाने के लिए कर्नाटक में कांग्रेस के चाणक्य कहे जाने वाले डीके शिवकुमार ने मोर्चा संभाला हुआ है। शुरू से ही शिवकुमार कह रहे हैं कि वो गठबंधन को इस संकट से उबार लेंगे।

डीके शिवकुमार बुधवार सुबह स्पेशल फ्लाइट से मुंबई के होटल रेनिसन्स पहुंचे। ये वहीं होटल है जहां नाराज विधायकों ने अपना डेरा डाला हुआ है। लिहाजा शिवकुमार इन रूठे विधायकों को मनाने इसी होटल पहुंच गए। लेकिन वहां पहुंचते ही होटल प्रबंधन ने उन्हें अंदर जाने की इजाजत नहीं दी। वहीं बागी विधायकों के कहने पर पुलिस भी वहां पहुंच गई और उन्हें अंदर जाने से रोका।

 

कनार्टक संकट: सुप्रीम कोर्ट पहुंचे बागी विधायक, विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे येदियुरप्पा

उधर..शिवकुमार ने बागी विधायकों से मिलने को लेकर अपनी आस नहीं छोड़ी है। शिवकुमार सुबह से ही होटल के बाहर खड़े हैं, इस दौरान उन्होंने अपना खाना-पीना भी वहीं खड़े होकर किया। दरअसल होटल के अंदर से ही एक शख्स उनके खाने के लिए मोमोज (चाइनीज व्यंजन) लेकर पहुंचा। साथ ही पीने के लिए उन्हें कॉफी दी गई।

इस कॉफी और मोमोज के सहारे शिवकुमार लगातार फोन पर नेताओं से संपर्क में भी बने हुए हैं। इस बीच हल्की बारिश भी हो रही है, लिहाजा शिवकुमार छाता लेकर भी उस जगह को छोड़कर नहीं जा रहे हैं। शिवकुमार का ये रुख साफ दर्शाता है कि वो इतना आसानी से हाल मानने वाले नहीं हैं।

आपको बता दें कि स्पीकर ने मंगलवार को जब बागी विधायकों के इस्तीफे देखे तो उनमें से कुछ इस्तीफों को असंवैधानिक बताकर दोबार देने के लिए कहा। इसके लिए स्पीकर ने उन्हें 15 जुलाई तक का वक्त किया है। ऐसे में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को अपनी सरकार बचाने के लिए थोड़ा और वक्त मिल गया है। यही वजह है कि डीके शिवकुमार मुंबई में होटल के बाहर हर हाल में बागी विधायकों से संपर्क कर उनकी नाराजगी दूर करने में जुटे हैं।