नई दिल्ली। अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले बीजेपी ( BJP ) के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ( subramanian swamy ) ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि अगर हम एक ही पार्टी के रूप में बीजेपी के साथ रह गए तो देश का लोकतंत्र कमजोर हो जाएगा। इतना ही नहीं स्वामी ने कांग्रेस ( Congress ), तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) और NCP को साथ आने की भी सलाह दी है।

पढ़ें- कर्नाटक क्राइसिस में नया मोड़, भाजपा ने जेडीएस को दिया सीएम पद का ऑफर

 

<script async src="https://platform. Twitter .com/widgets.js” charset=”utf-8″>

सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को ट्वीट किया, ‘ गोवा और कश्मीर को देखने के बाद मुझे लगता है कि अगर हम एक ही पार्टी के रूप में भाजपा के साथ रह गए तो लोकतंत्र कमोजर हो जाएग।’

स्वामी ने कांग्रेस, टीएमसी और एनसीपी को सलाह देते हुए ट्वीट किया, ‘ विपक्ष इटालियंस और संतान को हटाने के लिए कहे। इसके बाद ममता बनर्जी एकजुट कांग्रेस की अध्यक्ष बनें।

इसके अलावा NCP का कांग्रेस में विलय किया जाए।’ बीजेपी के खिलाफ सुब्रमण्यम स्वामी का यह बयान बवाल मचा सकता है। हालांकि, अभी तक बीजेपी की ओर से स्वामी के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। न ही विपक्षी पार्टियों ने कोई बयान दिया है।

पढ़ें- गुजरात: बैंक मानहानि केस में आज अहमदाबाद की अदालत में राहुल गांधी की पेशी

गौरतलब है कि स्वामी का बयान ऐसे समय में आया है, जब गोवा और कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर विपक्ष बीजेपी पर हमलावर है।

 

Subramanian Swamy

इस सियासी हलचल के लिए सभी पार्टियां बीजेपी को जिम्मेवार ठहरा रही है। हालांकि, बीजेपी ने साफ कहा है कि कर्नाटक और गोवा में जो भी सियासी नाटक जारी है उसमें उसका कोई हाथ नहीं है।

यहां आपको बता दें कि कर्नाटक में 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। इनमें कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायक शामिल हैं। वहीं, गोवा में 10 कांग्रेस विधायक बीजेपी में शामिल हो चुके हैं। अब देखना यह है कि स्वामी के बयान से बीजेपी की राजनीति किस करवट बैठती है।