नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद सियासत गर्म है। नेताओं के बयानबाजी का दौड़ लगातार जारी है। कुछ नेता केन्द्र सरकार के इस फैसले का समर्थन कर रहे हैं, तो कुछ जमकर विरोध में उतर चुके हैं। इसी कड़ी में जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक और कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बीच जुबानी जंग शुरू हो गया। राहुल गांधी ने मलिक के कश्मीर आने के निमंत्रण पर कहा कि विपक्षी नेताओं के दल को जम्मू-कश्मीर आने की इजाजत दी जाए।

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: बीजेपी को लेकर हिरासत में भिड़े महबूबा-उमर, अलग रखे गए दोनों

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘ हमें एयरक्राफ्ट मत दीजिए, लेकिन इस बात को तय कर दीजिए कि हमें वहां घूमने और लोगों से मिलने की आजादी होगी।’

हमारे मेन स्ट्रीम के नेता और सेना के जवान वहीं रहेंगे।’ राहुल गांधी ने कहा कि मैं विपक्ष के नेताओं के साथ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आने के निमंत्रण को स्वीकार करना चाहता हूं।

 

वहीं, राहुल गांधी से पहले कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को कश्मीर भेजने की मांग की थी। थरूर ने ट्वीट के जरिए जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल पर कटाक्ष किया, ‘ केवल राहुल गांधी ही क्यों, एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को जम्मू-कश्मीर में बुलाया जाए। जो कश्मीर के हालात का जायजा लेगा। इस यात्रा की व्यवस्था आप करें।’

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: DGP दिलबाग सिंह ने राहुल गांधी का दावा किया खारिज, कहा- घाटी में स्थिति सामान्‍य

 

styapal malik

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा था कि मैंने राहुल गांधी को यहां आने के लिए न्योता दिया है। मैंने उनसे कहा कि मैं आपके लिए विमान भेजूंगा ताकि आप स्थिति का जायजा लीजिए और तब बोलिए। आप एक जिम्मेदार व्यक्ति हैं और आपको ऐसे बात नहीं करनी चाहिए। राज्यपाल के इसी बयान पर राहुल गांधी ने जवाब दिया है।