नई दिल्ली। हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसके लिए सभी पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों का ऐलान लगभग-लगभग कर दिया है। ऐसे में महाराष्ट्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने हरियाणा में उस शख्स को उम्मीदवार बनाया है, जिसने एक साल पहले उमर खालिद पर जानलेवा हमला किया था। शिवसेना ने नवीन दलाल नाम के शख्स को हरियाणा की बहादुरगढ़ सीट से टिकट दिया है।

नवीन दलाल ने 6 महीने पहले जॉइन की है शिवसेना

आपको बता दें कि खुद को गौरक्षक बताने वाले नवीन दलाल पिछले साल उमर खालिद पर हुए हमले में आरोपी थे। नवीन के अलावा एक अन्य आरोपी और था। बता दें कि नवीन ने 6 महीने पहले ही शिवसेना जॉइन की थी। एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत करते हुए नवीन दलाल ने कहा है कि उन्होंने राष्ट्रवाद, गौरक्षा और स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान की विचारधारा के चलते शिवसेना का दामन थामा था।

naveen_2.jpg

धोखेबाज पार्टी है बीजेपी- नवीन दलाल

इस बातचीत में नवीन दलाल ने भाजपा पर भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी और कांग्रेस की सरकारों के पास किसानों, गरीबों, शहीद जवानों और हमारी गाय माता के लिए लिए कुछ भी करने को नहीं है, वो सिर्फ सियासत करते हैं।” नवीन दलाल को टिकट दिए जाने के बारे में शिवसेना का कहना है कि वो गायों की रक्षा करने और देश-विरोधी नारे लगाने वालों के खिलाफ आवाज उठाने जैसे मुद्दों पर काम करते रहे हैं, इसलिए हमने उन्हें टिकट दिया है।

umar_khalid.jpeg

उमर खालिद पर दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में हुआ था हमला

आपको बता दें कि कथित तौर पर नवीन दलाल ने अगस्त 2018 में उमर खालिद पर हुए हमले में शामिल था। इस अटैक में नवीन के अलावा एक दरवेश शाहपुर नाम का शख्स भी था। उमर खालिद पर ये हमला दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब के बाहर हुआ था। कॉन्स्टीट्यूशन क्लब के बाहर फायरिंग की घटना के बाद नवीन और शाहपुर मौके से भाग गए थे, लेकिन एक वीडियो सामने आने के बाद में गिरफ्तार कर लिए गए। फिलहाल नवीन दलाल जमानत पर है और मामला सेशन कोर्ट में चल रहा है।

नवीन पर तीन आपराधिक मामले हैं दर्ज

आपको बता दें कि नवीन दलाल ने चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे में बताया है कि उन पर तीन आपराधिक मामले चल रहे हैं। उमर खालिद वाली घटना के अलावा दलाल पर बहादुरगढ़ में आईपीसी की धारा 147/149 (दंगा फैलाने) और बीजेपी हेड ऑफिस में गाय का कटा हुआ सिर लेकर घुस जाने के मामले में कई धाराओं के तहत मामले दर्ज हैं।