नई दिल्ली। अयोध्‍या राम मंदिर जमीन विवाद ( Ayodhya verdict ) पर आज फैसले का अहम दिन है। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या जमीन विवाद पर फैसला ( ayodhya dispute ) सुना रहा है। इसे लेकर पूरे देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

अयोध्या फैसलें को लेकर कांग्रेस कार्यसमिति दस जनपथ में मीटिंग हुई। इस बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राहुल गांधी को छोड़कर यूपीए चेयर पर्सन सोनिया गांधी समेत तमाम बड़े नेताओं के साथ मौजूद है।

यह भी पढ़ें-70 साल पुराने मामले में अदालत के सामने फरियादी खुद भगवान हैं

बैठक में कांग्रेस ने अपने नेताओं को संदेश दिया है कि वो अनुच्छेद 370 की तरह राम मंदिर ( Ram Mandir Babri Masjid Verdict ) पर अलग-अलग राय ना दें। जिससे पार्टी की फजीहत हो। बता दें कि यह बैठक 10 नवंबर को होने वाली थी। लेकिन जैसे ही पार्टी को खबर मिली की फैसला 9 नवंबर को आएगा तो इसे देखते हुए आज ही फैसले से पहले यह मीटिंग बुलाई गई है।

 

[MORE_ADVERTISE1]cji.jpeg[MORE_ADVERTISE2]

चीफ जस्टिस पढ़ रहे हैं फैसला

सुप्रीम कोर्ट अयोध्या राम मंदर जमीन विवाद पर फैसला ( Ayodhya Faisla ) पढ़ रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय बेंच के जज चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi), जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ , जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर यह ऐतिहासिक फैसला पढ़ रहे हैं। चीफ जस्टिस ने फैसला पढ़ते हुए कहा कि इस मामले में फैसला ( Ayodhya Case ) सुनाने में मैं 30 मिनट का समय लूंगा।

[MORE_ADVERTISE3]