नई दिल्ली। महाराष्ट्र के राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने रविवार शाम शिवसेना को यह बताने के लिए निमंत्रण दिया कि क्या वह सरकार बनाना चाहती है और उसके पास राज्य में अगली सरकार बनाने की क्षमता है।

वहीं, शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने शिवसेना के सामने समर्थन के बदले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए ) से नाता तोड़ने की शर्त रख दी है।

इस क्रम में आज यानी सोमवार को शिवसेना नेता एनसीपी चीफ शरद पवार से मुलाकत करेंगे।

महाराष्ट्र में सियासी घमासान चरम पर, मंत्री पद से इस्तीफा देंगे शिवसेना सांसद अरविंद सावंत

[MORE_ADVERTISE1]

[MORE_ADVERTISE2]

राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेता नवाब मलिक ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर शिवसेना एनसीपी का समर्थन चाहती है तो उसको राजग से बाहर आना होगा और भारतीय जनता पार्टी से संबंध तोड़ने होंगे।

एनसीपी नेता ने कहा कि शिवसेना को हमारा समर्थन पाने से पहले केंद्रीय कैबिनेट से अपने कोटे के सभी मंत्रियों को इस्तीफा दिलवाना होगा।

वहीं, राज्यपाल की तरफ से शिवसेना को यह निमंत्रण भाजपा द्वारा सरकार बनाने से इंकार करने के बाद आया है।

भाजपा नवनिर्वाचित विधानसभा में 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है, जबकि शिवसेना 56 विधायकों के साथ दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

अभी—अभी देश की बड़ी शख्सियत का हुआ निधन, खबर लगते ही दौड़ी शोक की लहर

[MORE_ADVERTISE3]

कोश्यारी ने शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे से कहा कि वह इस मामले पर अपने रुख से अवगत कराएं। यद्यपि राजभवन की तरफ से भेजे गए पत्र पर कोई समयसीमा नहीं तय की गई है, लेकिन समझा जाता है कि शिवसेना के पास राज्यपाल के सामने सरकार बनाने के लिए जरूरी विधायकों की संख्या के साथ दावा करने के लिए मुश्किल से 24 घंटे का समय है।

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर भाजपा कोर कमेटी की बैठक खत्म, राज्यपाल के निमंत्रण पर चर्चा

संकेतों के अनुसार, शिवसेना तीसरी सबसे बड़ी पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (55 विधायक) और चौथी सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस (44 विधायक) से बाहर से समर्थन हासिल कर सकती है।