नई दिल्‍ली। समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सदस्य जया बच्चन ने सोमवार को सदन में कहा कि चाहे निर्भया, कठुआ या फिर हैदराबाद रेप कांड में से कोई भी क्‍यों न हो सरकार को उचित जवाब देना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि हैदराबाद रेप कांड को जिन लोगों ने अंजाम दिया है उनकी सार्वजनिक ( Public ) लिंचिंग होनी चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि जिन पुलिसकर्मियों ने लापरवाही बरती है, उनका नाम सार्वजनिक किया जाना चाहिए और उनको शर्मिंदा करना चाहिए। उन्‍होंने कहा हर बार घटनाएं होती हैं और चर्चा होने के बाद लोग इसे भूल जाते हैं। जब तक रेप के मामलों में सख्‍त कार्रवाई नहीं होगी तब तक ऐसे आरोपी घटना को अंजाम देकर बचते रहेंगे।

सबने की सख्‍त सजा की मांग

इससे पहले सोमवार को संसद के शीतकालीन सत्र के 11वें दिन संसद के दोनों सदनों में हैदराबाद रेप केस का मुद्दा जोरदार तरीके से उठ। सभी दलों के सांसदों ने इस मुद्दे पर गंभीर चिंता जताई। साथ ही सरकार से सख्‍त कानून बनाकर आरोपियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की मांग की।

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और राज्यसभा में सभापति वेंकैया नायडू ने भी देश में घट रहीं ऐसी घटनाओं पर चिंता जताई है। हैदराबाद में गैंगरेप के बाद डॉक्टर की हत्या की रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया है।
इस दौरान ऐसे मामलों की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई अनिवार्य करने, अपराधियों के बंध्याकरण की भी मांग उठी।

पॉलिटिकल विल की जरूरत

उपराष्‍ट्रपति व राभ्‍यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को नियंत्रित करने के लिए नए बिल की नहीं बल्कि पॉलिटिकल विल की जरूरत है। प्रशासनिक स्किल, माइंडसेट को बदलने के बाद ही हम इस सामाजिक बीमारी को खत्म कर सकते हैं।

राज्यसभा स्पीकर वेंकैया नायडू ने आरोपियों के नाबालिग होने पर कठोर सजा से बचने पर कहा कि जो इस तरह के अपराध करते हैं उन्हें लेकर उम्र का हवाला देने की बात मुझे समझ नहीं आती।