नई दिल्ली। कभी भारत की टेस्ट टीम का हिस्सा रहे तेज गेंदबाज वीआरवी सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। गुरुवार को उन्होंने क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया। आपको बता दें कि वीआरवी सिंह लंबे समय से चोट के कारण टीम से बाहर थे। उन्हें टेस्ट टीम में जगह नहीं मिल पा रही थी।

34 साल के वीआरवी सिंह ने भारत के लिए दो वनडे और पांच टेस्ट मैच खेले थे। पांच टेस्ट में उन्होंने कुल 8 विकेट लिए थे। वनडे में उन्होंने एक भी विकेट नहीं लिया था। साल 2006 में उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहला टेस्ट खेला था। 2006-07 में ही वो भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा थे।

अपने संन्यास का ऐलान करने से पहले वीआरवी सिंह ने एक इंटरव्यू के जरिए ये संकेत दे दिए थे कि वो जल्द ही संन्यास की घोषणा कर देंगे। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, “टीम से बाहर हो जाने के बाद मैने वापसी के लिए बहुत कोशिशें की, लेकिन पीठ की चोट के कारण मैं वापसी नहीं कर पाया, आप अपने आप को धोखा नहीं दे सकते। 2014 में सर्जरी होने के बाद कुछ सालों तक मैं खेला ही नहीं, लेकिन साल 2018 में ट्रेनिंग के बाद मैने एक बार फिर खेलने का प्रयास किया मगर मैं सफल नहीं हो पाया।”

आपको बता दें कि वीआरवी सिंह ने अपना फर्स्ट क्लास पंजाब के लिए खेला। इसके अलावा वो आईपीएल में भी पंजाब के लिए खेल चुके हैं। आईपीएल में 2008-2010 तक 19 मैच खेले, जिसमें उन्होंने 12 विकेट लिए। वीआरवी सिंह को युवराज सिंह का काफी अच्छा दोस्त माना जाता है। युवराज सिंह को लेकर वीआरवी का कहना है कि युवी ने मेरा बहुत उत्साह बढ़ाया।