नई दिल्ली। क्रिकेट को जेंटलमेंस गेम कहा जाता है लेकिन क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 ( Cricket World Cup 2019 ) में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच बर्मिघम में खेले गए सेमीफाइनल मैच में यह कहावत गलत साबित हुई। सेमीफाइनल में इंग्लैंड की जीत की नींव रखने वाले इंग्लैंड के बल्लेबाज जेसन रॉय (Jason Roy ) को ऑउट देने के बाद मैदान पर अभद्रता की सभी सीमाएं पार हो गईं। श्रीलंका के अंपायर धर्मसेना ने जेसन रॉय को कैच आउट दिया और जिसके बाद उन्होंने गुस्से में अंपायर के पास जाकर जमकर बहस की।

अंपायर से आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया

टूर्नामेंट के कई मैचों में इंग्लैंड की जीत के नायक रहे जेसन राय ने अभद्रता की सभी सीमाएं पार करते हुए पवेलियन लौटते हुए अंपायर के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया। मैदान से पवेलियन में पहुंचने के बाद भी जेसन राय की अभद्रता का सिलसिला जारी रहा। उन्होंने पैवेलियन के अंदर घुसते ही अपने दस्ताने भी फेंक दिए।

 

Jason Roy

जेसन राय को पैट कमिंस की बॉल पर ऑउट दिया

इंग्लैंड मैच में 224 के लक्ष्य की ओर बड़ी आसानी से बढ़ती हुई दिख रही थी। जेसन राय 64 गेंदों पर 85 रन के स्कोर पर नाबाद थे। तभी मैच के 20वें ओवर में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस की बॉल पर अंपायर धर्मसेना ने रॉय को कैच आउट करार दिया। जेसन राय अंपायर से फैसले से सहमत नहीं थे, वो फैसले का विरोध करने के लिए लेग अंपायर मराय इरेसमस के पास पहुंचे। गुस्से से तमतमाए जेसन राय ने अंपायर से उन्हें ऑउट दिए जाने की वजह पूछी। अंपायर ने दूसरे अंपायर धर्मसेना से बात करने के बाद उनको बताया कि गेंद आपके बल्ले को छूकर गई है।

गलत ऑउट दिए जाने की निराशा में की अभद्रता

जेसन राय को ऑउट देने के बाद रिप्ले में नजर आया कि गेंद बल्ले को छूकर नहीं गई थी। जेसन राय को पता था कि गेंद उनके बल्ले से छूकर नहीं गई है, लेकिन रिव्यू नहीं होने के कारण गलत ऑउट दिए जाने की निराशा में उन्होंने अंपायर पर भड़ास निकाली। महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर को भी अंपायरों ने कितनी बार गलत ऑउट करार दिया, लेकिन कभी भी उन्होंने मैदान पर अभद्रता तो दूर कभी अंपायर के फैसले पर सवाल तक नहीं उठाया।